Breaking News

रामगढ़ जिला में विद्युत आपूर्ति चरमराई , ब्लैक आउट की स्थिति

पिछले 36 घंटे से बिजली आपूर्ति हो रही है बाधित

रामगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज ने डीवीसी के कार्यपालक अभियंता को लिखा पत्र

रामगढ़जिला में पिछले 36 घंटे से बिजली आपूर्ति की स्थिति चरमरा गई है। पूरे जिला में ब्लैकआउट की स्थिति बन गई है। इसको देखते हुए रामगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज ने बीबीसी के कार्यपालक का अभियंता को पत्र लिखा है। रामगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष पंकज प्रसाद तिवारी, सचिव भूपेंद्र सिंह एवं ऊर्जा उप समिति के सभापति मनजी सिंह ने पत्र में लिखा है कि 27 जून को पूरे रामगढ़ जिला में बिल्कुल ब्लैकआउट की स्थिति है। कार्यपालक अभियंता, झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम लिमिटेड कार्य प्रमंडल रामगढ़ से वार्ता करने पर पता चला कि डीवीसी के द्वारा विद्युत की आपूर्ति में समस्या उत्पन्न हो रही है। डीवीसी के पावर प्लांट से दो यूनिट में एक यूनिट बंद हो गया है। जिसमें मेंटेनेंस का काम चल रहा है। जब तक मेंटेनेंस का कार्य पूर्ण नहीं होता है।बिजली की स्थिति यही बनी रहेगी साथ में उन्होंने यह भी बताया कि पूरे जिला में विद्युत की आपूर्ति का कंट्रोल आप स्वयं कर रहे हैं। यदि आपके द्वारा झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम लिमिटेड को यह सूचना दी जाए कि आपूर्ति कम होने की स्थिति में कम से कम कितना मेगा वाट बिजली आप 1 दिन में मुहैया करा सकते हैं।उस हिसाब से झारखंड राज्य बिजली वितरण निगम लिमिटेड अपने कंज्यूमर को आवश्यकता अनुसार बिजली की आपूर्ति करेगा। थोड़ा थोड़ा ही सही बिजली सभी को मिल सकेगा। ब्लैकआउट की स्थिति नहीं होगी वर्तमान समय में जब डीवीसी बिजली चालू करती है तो बिजली विभाग के सब स्टेशन से अत्यधिक भार के वजह से बिजली ट्रिप कर जा रहा है।जिसके वजह से कंजूमर को आज दिन भर में 15 मिनट भी लाइन नहीं मिल पाया है। अचानक इस तरह के कटौती से पानी की समस्या, इनवर्टर फल ऐसी समस्याएं उत्पन्न हो गई है। गर्मी ने लोगों का जीना बेहाल कर रखा है।आपसे विनम्र आग्रह है कि बिजली कटौती का कंट्रोल मिनिमम मेगा वाट फिक्स कर झारखंड राज्य विद्युत वितरण निगम लिमिटेड को देने की कृपा करें।ताकि वह सुविधा अनुसार बिजली की आपूर्ति क्षेत्र में कर सकें और कम से कम असुविधा लोगों को हो ।

 

 

Check Also

विशेष : बड़े संकल्प का दिन है विश्व आदिवासी दिवस

🔊 Listen to this अपने ही राज्य में अनसुनी की जा रही आदिवासियों की आवाजें …