Breaking News

अंजनी हत्याकांड का पुलिस ने किया उद्भेदन, दो गिरफ्तार

काफिला कंपनी का होलसेलर ने ही सुपारी देकर कराई हत्या

मेदिनीनगर: काफिला मोटर पार्ट्स के सेल्समैन अंजनी कुमार सिन्हा की हत्या शहर थाना क्षेत्र के रेडमा चौक स्थित सब्जी बाजार पुराना रांची रोड में 18 जून को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसके बाद पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा ने डीएसपी सुजीत कुमार के नेतृत्व में एसआईटी का गठन कर मामले का खुलासा करने का निर्देश दिया था। इस मामले में एसआईटी की टीम ने अनुसंधान के क्रम में दो लोगों को गिरफ्तार की है। इस संबंध में डीएसपी सुजीत कुमार ने प्रेस वार्ता कर कहा कि काफिला मोटर पार्ट्स कंपनी का होलसेलर स्टार मोटर दुकान के मालिक अमजद हुसैन उर्फ गुड्डू था। लेकिन मोटर पार्ट्स की कंपनी ने कई और दुकानों को अपना सामान देना शुरू किया। इसके बाद स्टार मोटर की दुकान कम चलने लगी।जिस कारण अमजद काफी तनाव में रहता था, जबकि मृतक अंजनी सिन्हा एवं अमजद के बीच 20 वर्षों का संबंध रहा है। अमजद के पास कंपनी का एक लाख 55 हजार रुपये बकाया था। जो देने से आनाकानी करता था। जिसकी तगादा मृतक अंजनी बराबर करता था। अमजद उर्फ गुड्डू ने अंजनी की हत्या करने की योजना बनाई, इसके बाद उसने गढ़वा के शातिर अपराधी छोटू रंगसाज से मिला।छोटू रंगसाज के साथ उसकी पुरानी मित्रता थी। उसने पूरी बात बताया, तो छोटू ने दो लाख रुपए सुपारी देने के लिए कहा। और कहा कि तुम अपने आदमी को मेरे आदमी से पहचान करवा दो तेरा काम हो जाएगा। इस पर अमजद ने जितेंद्र चंद्रवंशी उर्फ लंगड़ा उर्फ जेके से संपर्क किया। उसने अमजद को साथ देने का वादा किया। इसी बीच अमजद ने अंजनी सिन्हा को फोन कर रांची से बुलाया पैसा देने के लिए।जब अंजनी सिन्हा स्टार मोटर दुकान में जाकर अमजद से मिलने पहुंचे, तो इसी बीच अमजद ने जितेंद्र चंद्रवंशी को दुकान में बुलवा लिया। और अंजनी का पहचान करवाया। इसी बीच अमजद ने जितेंद्र को दस हजार रुपये छोटू रँगसाज के सूटर को भिजवाया। इसके बाद अंजनी अमजद के दुकान से निकलकर एक सफेद रंग की स्कूटी से जाने लगे। तब जितेंद्र ने सूटर की पहचान अंजनी से करवाया। और इसकी पल-पल की खबर जितेंद्र अमजद को देना शुरू किया।और जैसे ही शूटर ने अंजनी सिन्हा को गोली मारी तो इसकी सूचना जितेंद्र अमजद को देखकर फरार हो गया। डीएसपी सुजीत कुमार ने बताया कि गुप्त सूचना एवं तकनीकी अनुसंधान के आधार पर अमजद को हिरासत में लेकर पूछताछ किया गया जिसमें हत्याकांड का खुलासा परत दर परत होता चला गया।उन्होंने कहा कि छोटू रंगसाज का शूटर जिला स्कूल स्थित सीट कवर का काम करने वाला असफक का दामाद सुहैल है जो अभी फरार है।उन्होंने कहा कि इस हत्याकांड में शामिल सुहेल एवं छोटू रंगसाज फरार है। पुलिस दोनों की गिरफ्तारी के लिए प्रयासरत है।उन्होंने कहा कि पैसे की लेनदेन के कारण हत्या की गई है।गिरफ्तार अमजद उर्फ गुड्डू नवाटोली निवासी निजामुद्दीन का पुत्र है,जबकि जितेंद्र चंद्रवंशी वेलवाटिका गुरुद्वारा रोड निवासी गोपाल प्रसाद का पुत्र है।इन लोगों के पास से हत्याकांड में प्रयुक्त एक कार, एक मोटरसाइकिल एवं तीन मोबाइल बरामद किए गए हैं। एसआईटी के टीम में शामिल डीएसपी के अलावे शहर थाना प्रभारी अरुण कुमार महथा,पुलिस अवर निरीक्षक सौरभ कुमार अमित कुमार सिंह ,नकुल शाह ,वरुण कुमार ,जमादार नवी अंसारी एवं अन्य पुलिस जवान शामिल थे।

Check Also

भाजपा चितरपुर मंडल कार्य समिति की बैठक संपन्न

🔊 Listen to this स्थानीय समस्याओं को लेकर आंदोलन करने का निर्णय रजरप्पा(रामगढ़)। बुधवार को …