Breaking News

भाजपा चुनावी वादा को भूल कर उद्योगपतियों को पहुंचा रही लाभ : भाकपा

मेदनीनगर। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य कार्यकारिणी के सदस्य सूर्यपत सिंह ने कहा कि भाजपा की सरकार बनते ही जनता के द्वारा किया गया वादा भूल कर चुनाव में मोदी के मित्रों के द्वारा दिए गए हजारों करोड़ को वापस करने के लिए उन कॉरपोरेट घरानों के हित में उनके कहने पर कदम उठाते हुए किसानों का जमीन छीन कर कंपनियों को देने के लिए भूमि अधिग्रहण अधिनियम में किसानों का सुरक्षा कवच को समाप्त करने का अध्यादेश ले आए।जिसका पूरे देश में पुरजोर विरोध हुआ। जिसके कारण उसे ठंडा बसता में डालना पड़ा।

मोदी जी ने वादा के अनुसार किसानों का 112000 करोड़ रुपए माफ नहीं किया और कारपोरेट घरानों के अपने दोस्तों का 7 .30 लाख करोड़ माफ कर दिया। काला धन लाने के नाम पर नोटबंदी रातों-रात किया और अपने कॉरपोरेट घरानों शहीत सभी का काला धन सफेद कर दिया और आम जनता को अपना पैसा बदलने के लिए दिनभर लाइन में खड़ा कर दिया जिसमें 60 लोग मर गए। 7 बरस में काला धन 7रू भी नही आया।भाकपा जिला सचिव रुचिर कुमार तिवारी ने कहा कि आगे नाथ न पीछे पगहा वाली कहावत वाला सन्यासी कहने वाला इस 7 वर्षों में अपने को खूब दिलवाया और अपने भी मौज से खाया एवं मौज किया ।

इन्होंने अपने दोस्त कारपोरेट घरानों को खूब मालों माल किया। इन 7 वर्षों में अडानी की पुंजी 369 गुना एवं अंबानी का 234 गुना बढ़ गया, देश के गृह मंत्री तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह की संपत्ति सोलह सौ गुना बढ़ गया। यही नहीं मोदी जी के अपने सभी भाई एवं चचेरे भाई भतीजा सभी लखपति से करोड़पति अरबपति बन गए यहां तक कि दो भाइयों का रिलायंस में साझेदारी है। और आम जनता इस महामारी में अस्पताल में बेड नहीं मिला ऑक्सीजन के बगैर तड़प कर मर रहे थे लाखों लोगों ने अपनी जान गवाई, सैकड़ों लोगों का दाह संस्कार नहीं हुआ उसे नदी में बहा दिया गया। अभी तीसरा लहर आना बाकी है।

मोदी जी 7 वर्ष में देश के संपत्ति बेचकर अपनों को खिलाने और मौज मस्ती करने मैं लगे हैं और इसीलिए इन्होंने हजारों करोड़ का हवाई जहाज अपने लिए मंगवाया ‌और अमेरिका से मुकाबला करने के लिए देश की संपत्ति बेचकर और कर्ज लेकर हजारों करोड़ का नया संसद भवन एवं अपना आवास बनवा रहे हैं, इनकी 1 दिन का भोजन पर 45000 से ज्यादा खर्च है। पूर्व के सरकार के समय देश पर कुल कर्ज 57 लाख करोड़ था जो आज बढ़कर आज 97 लाख करोड हो गया ,वही दो करोड़ नौकरी भर्ती वर्ष देने का वादा भी छलावा हो गया ।इस प्रकार यह सरकार जनविरोधी कारपोरेट पक्षी सरकार रही।कुल मिलाकर 70 वर्ष की कमाई 7 वर्ष में खाई।

Check Also

गिरिडीहः बाबूलाल मरांडी अचानक पहुंचे प्रखंड कार्यालय, कहा- समय पर करें म्यूटेशन के काम

🔊 Listen to this गिरिडीहः तिसरी गांव के लोगों ने पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी से शिकायत …